डर

By: Parisa Gupta

मन का वहम है डर, सच तो यह है कुछ है ही नहीं डर।