अभिनय से अनुभव तक

By: Anita sharma


जो हाथ डगमगाते कदमो को चलना सिखाते थे 
आज अपने क़दमों को ही नहीं सम्भाल पाते है 
बार बार लड़खड़ाते हैं 
 

जो बचपन में साथ बैठकर पाठ याद करवाते थे 
अब डेमेंटिया जैसे दानवो के वशीभूत 
अपने बच्चो को अजनबी निगाहों से देख हैं

वो सदा हमारे मंगल कामना के लिए उठे आशीष स्वरुप हाथ 
आज पार्किंसन मानो उन हाथो को पकड़ कर झकझोर रहा हो 

 

संभवतः निर्देशक ईश्वर का ऊपर से आदेश है 
अनुभव संपन्न इनको अब सहज बाल चरित्र में आने दो 
गोधूलि की इस बेला में उन्हें भी उन्मुक्त सुबह का आनंद उठाने दो |