कुछ तो होती है कविता

By: Prachi

मौसम सी होती है कविता,

कहना चाहती बात फसल सी।

जो पुष्प आए एक मौसम तो,

करो  प्रतीक्षा अगले मौसम की।।