अर्धांगिनी

By: monica agarwal

                       अरधांगिनी

 

तेरी खुसी में,तेरे गम में,है हिस्सा मेरा,
तेरी हर सोच में,बातो में है किस्सा मेरा,
परछाई जैसे संग रहु, बनके तेरी संगिनी,
में हु तेरी अर्धांगिनी ....

हर खुसी है तुझसे मेरी,
हर गम में हु तेरी साथी,
बाटू सारी तकलीफे तेरी,
निभानी है तुझसे दोस्ती,
साथ चले हम हरदम जैसे,
बरसात में बादल और दामिनी,
में हु तेरी अरधांगिनी.