कवियों को पहुंचे मेरा सलाम....

By: Javed Ali


कवि थे, कवि हैं, कवि होंगे,

कवि रहेंगे तुम्हारे अमिट निशान !

जगत के सारे कवियों को पहुंचे

मेरा सलाम !

कवि जीवित है तुम्हारी हर

एक रचना ,

कवि तुम हो सागर, तुमने

सजाया सपना !

कवि तुम अंधेरे में उजाला हो,

कवि तुम घनी धूप में मधुर

छाया हो,

कवि तुम ज्ञानी, कवि तुम संवेदी,

कवि तुम हो खुद में खुद की

पहचान ,

कवि तुम ममता का चित्रण,

कवि तुम चाँद, कवि तुम

कल्पना की ऊंची उड़ान !

जगत के सारे कवियों को पहुंचे

मेरा सलाम !