अनकही

By: Prachi

बातें कुछ अनकही सी है,
पर फिर भी सुनी सुनी सी है,
ना जाने क्यों आज भी, 
कुछ लोगो की ज़िंदगी थमी थमी सी है।