कब तक कलियाँ मसली जाएगी..!

By: Rahul Kiran

                     आज कलम न हंसी ठिठोली, 
                                  और व्यंग्य के गीत लिखेगी ! 
                      न ही पिया मिलन का वर्णन, 
                                   न प्रियतम की प्रीत लिखेगी ! 

                      न ही दास बनकर त्यागी , 
                                    जयजयकार मनाएगा ! 
                      आज  कहेगा पीड़ा हृदय की, 
                                    हाहाकार मचाएगा !! 

                      कोई तो बतलाए कब तक , 
                                 कलियाँ मसली जाएगी ? 
                      नन्ही  किलकारी दानव पद -
                                 तल से कुचली जाएगी  ? 

                      कब तक जलती काया पर , 
                                 श्रद्धांजलि द्वीप जलाएंगे ? 
                      कब तक जन्तर मन्तर पर , 
                             श्रृंगाली रुदल मनाएंगे ? 

                      कब तक संसद के सम्मुख हम , 
                              यूँ   न्याय - न्याय चिल्लाएंगे ? 
                      क्या बेटी की रक्षा केवल , 
                               भाषण जुमलेबाजी है ? 

                       ऐसी घटनाओं पर क्या ये , 
                                  सत्ता कम अपराधी हैं? 
                      नन्ही बुलबुल कब से शंकित, 
                                   शोषित घातों से है ! 

                       बोलो- बोलो कैसे कह दूँ , 
                                   देश सुरक्षित हाथों में है ? 
                       जो नरभक्षी अपनी ही बेटी 
                                    का भक्षण करता है, 

                      उसे भी ये माफी देकर , 
                                    उसका संरक्षण करता है  
                       क्यों ये मौन रहता है उस 
                                   मासूम हृदय के खून पर ! 

                      सौ - सौ बार थूकता हूँ ऐसे 
                                    कायर कानून पर ! 

                     कब तक ऐसे ही तिलक, दिनकर को 
                                 झूठी श्रद्धांजलि दी जाऐगी ! 
      
                    अगर हृदय में थोड़ी सी ही , 
                                शर्म कहीं पर बाकी हो 

                    बडी़ - बड़ी बातों से बढकर 
                                कर्म कहीं पर बाकी हो ! 

                   कब तक यूँ ही चाटुकारिता को 
                                और अधिक निर्वाह करोगे

                    शासक के कर्तव्यों का , 
                                 अब तो समुचित निर्वाह करो ! 

                   वोट बैंक की बाधाओं  की 
                                  तनिक नहीं परवाह करो ! 

                   तनिक अगर तुम,गांधी भगत की आगत 
                                  - स्वागत करते हो छोड़ कायरता 

                  मानवता की राह को स्वीकार कर 
                                      मौन छोड़ हुंकार भरो, 

                 तड़पी बेटी की आहों पर ! 
                                    बेटी के हत्यारों को अब, 

                  फांसी दो चौराहों पर ||