दुआएं

By: DeepShubha

एक सिक्के की मोहताज दुआएं

सड़कों पे घूमती हैं

टकराता है जब सिक्का कटोरे से

तब जा के दुआएं गूंजती हैं

गर यही सीढ़ी है दुआ पाने की

तो यकीन मानिए... खुदा कसम...!!

हमारी भी जेब में दुआएं ऊंघती हैं

ये दुआओं की पुड़िया... एक बुढ़िया...!!

हर दूसरे चौराहे पे बेचती है

जबसे देखी है बेबसी की शकल

उन गरीब आंखों में

तब से हुई ख़बर हमें भी

कि वाकई...!

दुआएं बेहद ही कीमती हैं...

बेहद ही कीमती हैं