परछाईं

By: संगीता गुप्ता

सुख-दुख की जीवन साथी,
पग पग साथ निभाती है,
छड़भर भी वह जुदा ना होती,
हा बड़ी, छोटी और मोटी बन जाती है।।