Aaurat

By: Aadhyam

पैरों की पायल बेड़िया नहीं,

हाथों की चूड़ी हथकड़ियां नहीं।

चुप रहना मजबूरियां नहीं,

इंसान मैं भी हूं खिलौना नहीं।।