ये जो गजलों का पिटारा है..!

By: Rahul Kiran

ये जो गजलों का पिटारा है

वो अनुभव कम सच्चाई ज्यादा है ..!