Yahi duniya hai

By: Parisa Gupta

कोई भागता है तो कोई भगाता है,

कोई सुनता है तो कोई सुनाता है।

कोई हंसता है तो कोई हंसाता है,

ऐसे ही दुनिया चलती है।

कोई चलता है तो कोई चलाता है।।