बच्चे

By: Sangita


बच्चे कुछ भी जानते नहीं है,
बात किसी कि मानते नहीं है।
करते हैं अपनी मनमानी,
हर चीज की खींचातानी।।