भारत माँ का लाल कहलाना

By: Bimal Pathak

मै तुम्हारी दरगाह आऊंगा
तुम कभी मेरे मंदिर आना
मै कुरान पढ़ूँगा तुम्हारी
तुम मुझे कभी गीता सुनाना

आगे बढ़कर इस मजहब से
हम तुमको है राष्ट्रवाद फैलाना
छोड़ कर इस हिन्दू मुस्लिम
भारत माँ का लाल कहलाना

वो बाटेंगे  हमको तुमको
पर अब हमको है एक हो जाना 
तोड़कर इन दुकानो को
हमको नया हिंदुस्तान है लाना

अब आगे है जिम्मे हम पर
नव निर्माण का परचम लहराना
इससे देश की शान बढ़ेगी
नव निर्मित का मान बढाना

त्यागकर ,जय श्री राम व अल्लाह अकबर
भारत की जयकार लगाना 
चूमकर  इस धराको
इसकी खुशबू मे लीन होजाना

रोम रोम से प्रफुल्लित कर
सीने मे तुम भारत का जज़्बा दिखाना
अबकी जो लड़ाए हिन्दी, उर्दू
तुम माँ, मौसी का रिश्ता समझाना
 छोड़ कर इस हिन्दू मुस्लिम
भारत माँ का लाल कहलाना।
भारत माँ का लाल कहलाना।।
©bimalpathak