चाय और चौपाल

By: Purushottam Pareek

वो सर्द शामें दोस्तों का हाथ थामें गाँव के चौपाल फर मिलते थे

चार प्यालें चाय के साथ लेकर नयी पुरानी बातें किया करते थे

एक चुस्की चाय के साथ कई घंटे बीता करते थे,हंसी,खुशी और मस्ती के साथ ठहाके लगाया करते थे।

दोस्तों अशके साथ दिन से दोपहर और उन्ही के साथ चौपालों पर शामें ढला करती थी, सच में उन मुलाकातों में जिन्दगी मुस्कुराया करती थी।

अब वो हंसी खुशी के लम्हें जिन्दगी को तन्हा कर जाते है

अब कोई दोस्तत नहीं बुलाता और हम भी अब किसीसे मिलने नहीं जाते।