प्रशंसा

By: Utkarshaa Koshta

देख मुझे तू,

मुझे आस है , किसी की ।

दे पंख मुझे तू , उड़ना चाहती हूँ , मैं ।

दे साथ मेरा तू , चलना चाहती हूँ  , मै ।

दे मंजिल मुझे तू , पाना चाहती हूँ , मै ।

दे ख्वाब मुझे  तू , देखना चाहती हूँ , मै ।

दे साहस मुझे तू , लड़ना चाहती हूँ , मै ।

बस कर दे एक बार जु़बान से प्रशंसा मेरी , फिर से जिंदगी जीना चाहती हूँ , मै ।

                                                                                                             - उत्कर्षा कोष्टा