Tanha "Alone"

By: Ashish Tatla "Behrupiya"

तस्वीरों के किस्से है कहीं
तो कहीं बातों के रेलें है
हमको तो बख़्शी हुई है
दिलक़श यारो की महफिले
दिल साझा करने को रब ने,
तन्हा तो वो है ज़नाब जो
जमाने की भीड़ में होकर भी
हर पल अकेले होते है...