तेरे शहर में

By: sandeep kajale

ढूंढने सुकून थे आये

चाहते थे ज़िंदगी के साये

लेकिन मिला कैसा ये जहर

आके तेरे शहर में

 

शीशे की तरह टूटे सपने

कहीं खो गए मेरे अपने

पाया हमने  ये अजीब कहर

रहके तेरे शहर में

 

छाया अजीबसा अंधेरा

धुंधलाती राहें, लगे जैसे कोहरा

लगता है अनजान ये नगर

खोके तेरे शहर में

 

खो गयी रिश्तोंकी गहरी

मिल रही, मंजिल मंजिल तनहाई

दौडती है ख़ामोशी की लहर

दौड़के तेरे शहर में

 

 

जारी है अभीभी तुम्हारी तलाश

समझ पाते तुम मुझे, काश

दूर तो तुमसे अगर

मिलके तेरे शहर में