रह गयी बात अधूरी

By: sandeep kajale

हमे कुछ उनसे कहना था

उनके दिल में रहना था

 

चाहते थे ज़िंदगीभर का साथ

सफर हो लेकर हाथोमें हाथ

 

शायद जी सके दो पल

हमराही कही दूर चल

 

देखना चाहते थे प्यार के ख्वाब

उलझते सवाल, ढूंढ़ते रहे हम जवाब

 

अजीब सा खामोश पानी है

कुर हो रही, हमरी ज़िंदगानी है

 

रिश्तोंमें बढ़ रही है दुरियाँ

टूटे दिल, बदनाम यारियाँ

 

ना छोड़ो हमे बीच राह में

जी सके आपकी ही चाह में

 

काश सुना पाते हमारी आरजू पूरी

मगर अफ़सोस............

 

रह गयी बात अधूरी

 

रह गयी बात अधूरी