आसमान को खुलने दो

By: sandeep kajale

ज़िंदगी खोजती है

एक नयी राह

उम्मीद भरे सपने

खुशियोंकी चाह

 

जीना चाहते है

हम भी शान से

सिना फूलना चाहिए

लोगोंके सन्मान से

 

गूंज उठे हमारा लिए

खुशियोंकी शहनाई

कलियाँ खिलती रहे

ना मिले कभी तनहाई

 

हमारी ज़िंदगी भी

चाँद से आबाद हो

करते रब से

ना ये बर्बाद हो

 

 

 

ऐसे विचिलित   हालाथ में

हमे अपना  सुख पाना है

अपनानोंसे होकर रूबरू

दगी का गीत गाना है

 

 

हर दर्द का रिश्ता

अब हमे भूलने दो

इस नये पंछी को

आसमान खुलने दो