दुनिया की रीत

By: Sunidhi Singh

इंसान बाहरी चुनौतियों से नहीं बल्कि अंदर की कमजोरियों से हारता है,

बेगैरों से नहीं, अपनो से हारता है

दुनियावी छलावा है दोस्तों यहां लोग अपनो से नहीं पैसों से ज्यादा प्यार करता हैं।