जर्रे जर्रे में सिर्फ तुम हो

By: VIKASH KASHYAP

ज़र्रे ज़र्रे में सिर्फ तुम हो
तेरी हर एक याद है

ना भुलाने वाले वो पल
वो हर एक ज़ज़्बात है

बिन तेरे ना गुज़रे दिन
और उससे भी बड़ी
हर एक रात है...