एक नम्र निवेदन है मोदी जी तुमको

By: R.k.Rastogi

जेठ की दुपहरी

देख दुपहरी जेठ की,हर कोई मांगत छाय।
माह मास में देखत इसे,मन ही मुस्काए।।

देख दुपहरी जेठ की,कोरोंना भी परेशान।
कुछ दिनों में टूट जाएगा,इसका भी अभिमान।।

देख दोपहरी जेठ की,आलू भी हुआ बेहाल।
पानी बिन उबल रहा,देखो गरमी की चाल।।

देख दोपहरी जेठ की,तरुवर भी अकुलाय।
पर पथिक तरु की छाय बैठ केवल मुस्काए।।

देख दुपहरी जेठ की, टप टप बहे पसीना।
खाने को कुछ दिल करत,मुश्किल है अब जीना।।

देख दोपहरी जेठ की,रहते इससे दूर 
कैसे इसको दूर भगाए,है इससे मजबूर।।

आर के रस्तोगी
गुरुग्राम