कितनी मुश्किलों से

By: सुभाष चंद्र

।। कितनी मुश्किलों से...।।

कितनी मुश्किलों से
मैंने तुम्हें खोजा--पाया

कितनी मुश्किलों से
प्यार के मिट्टी की
भीत बनाईं

कितनी मुश्किलों से
तुम्हारे लाड़ की                                           
छत चढ़ाई

कितनी मुश्किलों से
इस घर को
हवा-पानी से बचाया

कितनी मुश्किलों से
भसकती हुई भीत पर
बार-बार
प्रेम-सनी मिट्टी
फिर फिर चढ़ाई

कितनी मुश्किलों से
तुम्हारे साज-संवार के लिए
गुलाब-वैजयंती-सेवंती लगाए

कितनी मुश्किलों से
नाज उठाने
तुमको प्रिय
आम-अमरुद-सीताफल लगाये
और
तोड़कर
सबसे पहले
तुम्हें खिलाये
......
......

ओह!
कितनी मुश्किलों से
हम
दो जान से
एक ही परछाईं मैं
सार्थक हो पाये