The Inside Story of Indian Politics

Bharat Ki Rajneeti Ki Andar Ki Baat

by Kumar Dhruv

₹110.00

ISBN 978-93-87456-33-4
Languages Hindi
Pages 68
Cover Paperback

Product Description

भारत की राजनीति की अंदर की बात

यह सामग्री राजनीतिक परिदृश्य और हमारे राजनीतिक नेताओं, नौकरशाहों और हम लोगों के कार्यों के वास्तविक व्याख्यान हैं। मैंने आजादी के बाद से पिछले सत्तर साल से हमारे देश की राजनैतिक गतिविधियों का वर्णन किया है। मैंने पाया कि हमारे नेताओं के चरित्र और आदर्श बहुत कुछ बदल गया है । इससे पहले जो लोग राजनीति में आए, वे वास्तव में अपने देश से प्यार करते थे और बिना स्वार्थ के देश के लिए काम करते थे। वे अपने देश के लिए लड़े और जो भी उन्होंने देश के लिए कार्य किए वो दिल से था, इन नेताओं ने अपने देश से कुछ भी नहीं लिया, लेकिन अपने देश के लिए योगदान करने की कोशिश की और उनके लिए देश को गर्व है। वर्तमान में भारतीय राजनीति एक व्यवसाय बन गई है l वर्तमान पीढ़ी के राजनीतिक नेता राजनीति में शामिल होते हैं उन्हें और उनके परिवार को अधिकतम लाभ प्राप्त करने के लिए। शब्द;लोकतंत्र; केवल वर्तमान भारतीय राजनीति और राजनेताओं के लिए शब्दकोश में है, भारत में, वर्तमान समय में राजनीति एक पेशे की तरह है और लोग देश के विकास के लिए नहीं, बल्कि राजनीति में आते हैं, पांच साल के कार्यकाल के दौरान पैसे कमाने के लिए और उनकी संपत्तियां बनाते हैं। इस देश में ग़रीब और अधिक गरीब और समृद्ध लोग और अधिक अमीर बनते जा रहे हैं।
इस स्थिति के लिए जिम्मेदार दो बुनियादी चीजें हैं पहली बात तो शिक्षा की कमी है और दूसरा हमारे देश की आबादी है। नेता भी इसका लाभ उठा रहे हैं और वे जानबूझकर चाहते हैं कि और अधिक अशिक्षित लोग हो और इस देश में आम लोगों को असली मुद्दों से भटकाकर हिंदू-मुस्लिम, सामान्य और अनुसूचित जाति,अनुसूचित जनजाति या मंदिर और मस्जिद जैसे अन्य विषयों में उलझा कर व्यस्त रखा जाए। अंत में मुझे यह कहना है कि हर 15 अगस्त को हम झण्डा फहराते हैं, देशभक्ति गीतों को सुनते हैं और हमारी आजादी का आनंद लेते हैं लेकिन अंदर की कहानी यह है कि हमें स्वतंत्रता तो “गोरों” से मिली थी पर अब हम फिर से इन “कालों” के हाथों परातंत्र हैं l मैंने इस पुस्तक को साधारण भाषा में लिखा है ताकि सभी आसानी से समझ सके


लेखक के बारे में

लेखक का मूल नाम ध्रुव मुखर्जी है जो अपने पेन नाम;कुमार ध्रुव; के नाम से लिखते हैं। उनका जन्म 31 मार्च 1958 को कोलकाता में एक बंगाली परिवार में हुआ था। वह बचपन से ही लिखते आ रहे हैं । अपने पिता के तबादला के कारण, जो एक आई.ओ.एफ.एस. थे, उनकी शिक्षा पांचवीं कक्षा के बाद, जबलपुर, मध्य प्रदेश में हुई। वह स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के एक पूर्व कर्मचारी हैं और एक पूर्व राष्ट्रीय हॉकी खिलाड़ी भी हैं और एक अंतरराष्ट्रीय Veteran टेबल टेनिस खिलाड़ी भी हैं जो जर्मनी में पुरस्कार प्राप्त कर चुके हैं। 2016 में उनकी पहली पुस्तक दिल की आवाज़; प्रकाशित हुई थी। यह कविताओं की एक किताब है जो रोमांटिक, राजनीतिक और हास्य का संयोजन है l वह 1978 में अपने
महाविद्यालय, सेंट अलोइसियस कॉलेज, जबलपुर के पत्रिका के संपादक भी थे। 1978 में स्नातक होने के बाद, उन्होंने 1980 में जबलपुर विश्वविद्यालय से महान व्यक्तित्व वाले स्वर्गीय कालिका प्रसाद दीक्षित के मार्ग दर्शन में पत्रकारिता में डिप्लोमा किया था, और पोस्ट ग्रेजुएट मैनेजमेंट, भारतीय विद्या भवन, मुंबई से और आईआईएम अहमदाबाद से S.M.E.P. का क्रैश कोर्स भी किया है। इन गतिविधियों के अलावा, वह एक बहुत अच्छा माउथ ऑर्गन वादक हैं और एक जादूगर भी हैं और देश में कई शो तथा दूर दर्शन में भी अपनी जादू का जलवा दिखा चुके हैं l आप लेखक से संपर्क कर सकते हैं और अपने निम्नलिखित ई-मेल आईडी पर इस पुस्तक के बारे में अपने बहुमूल्य सुझाव दे सकते हैं: –
natpubindia@rediffmail.com

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “Bharat Ki Rajneeti Ki Andar Ki Baat”

*

Sample View

Also Available on:

Flipkart Amazon InfiBeam Shopclues Snapdeal