पंख कागज के Pankh Kagaz Ke - ZorbaBooks
Bimal Baduni

पंख कागज के Pankh Kagaz Ke

by बिमल वरन बडूनी Bimal Varan Baduni

249.00

E-Book Price ₹99 / $1.99

Genre ,
ISBN 9789390011643
Languages Hindi
Cover Hardcover
E-Book Available

Description

पंख कागज के by Bimal Baduni

कुछ आसपास घटने वाला , कुछ यादों के समन्दर से निकला , कुछ सुनी दूसरों की, कुछ कही खुद की | कुछ जो कहा नहीं , कुछ जो सुना नहीं | कुछ सूरज के साथ, कुछ चाँद के नाम | थोड़ी हकीकत ज़मीनी ,थोड़े पैगाम ख़याली | कुछ मुस्कराहटों तो कुछ आंसुओं के नाम | कुछ नदी के साथ और कुछ सागर के पास | कुछ रातें लम्बी ,कुछ सर्द सुबहों के नाम | कुछ बादलों को मनाना और फिर भीग जाना | कभी सफ़र चाहत का, कभी मन आहत सा | कभी दिल सिकंदर, कभी भय का बवंडर | इतना सब समेटे हुए है बिमल वरन बडूनी का नया कविता संग्रह “पंख कागज के” | यह एक ओर बयां करता है खुले आसमान को छूने की चाहत तो दूसरी ओर समेटे हुए है दर्द अनगिनत कैदों को झेलते हुए इंसान का | यह कविता संग्रह सफरनामा है चाहतों के आसमान से हकीकत की जमीन तक का और ये सफर सिर्फ कवि का ही नहीं , हर पाठक को कहीं न कहीं ये सफर अपना सा लगने लगता है |

Other books by Bimal Baduni

About The Author Bimal Baduni

 

Reviews

There are no reviews yet.

Be the first to review “पंख कागज के Pankh Kagaz Ke”

Your email address will not be published.

*

Sample View

Also Available on:

Flipkart Amazon Shopclues Snapdeal